Friday, June 28, 2013

अनाहिता



“तुम यहाँ बैठी हो? और घर पर सब परेशान हो रहे है.”

“घर पर मन नहीं लग रहा था. इसलिए यहाँ चली आई.”

“बताकर आती. सब परेशान हो रहे है घर पर. उन्हें लगा कि तुम मेरे साथ हो. मैं भी परेशान हो गया था. फिर याद आया कि दुनिया में एक ही जगह है जहां तुम मिलोगी.”

वह उसकी बगल में बैठ गया. वह कुछ बोली नहीं बस मुस्कुरा दी.

“समझ में नहीं आता कि इस जगह में ऐसा क्या ख़ास है. क्यों तुम्हे ये समंदर इतना पसंद है?”

उसकी मुस्कान गहरी हो गयी.

“यही तो तुम्हारी गलती है. तुमने कभी समंदर को पढने की कोशिश नहीं की. कभी इसकी लहरों को समझने कि कोशिश नहीं की. ऊपर से इसकी लहरें कितनी चंचल दिखती है. लेकिन जैसे जैसे नीचे जाओगे, ये शांत होती जाती है. और समंदर की तली में तो लहरें बिलकुल खामोश हो जाती है. बिलकुल खामोश. कोई सोच भी नहीं सकता कि ऊपर से चंचल ये लहरें अन्दर में किस खामोशी को दबाये हुयी है. समंदर से गहरे कई राज़ होते है जिन्हें जानने की ज़हमत कोई नहीं उठा पता. गहरी चीजों में कितनी सच्चाई होती है. समंदर भी उतना ही सच्चा होता है. कभी तुमने या हमने ये जानने की कोशिश नहीं की कि चाँद को छूने की नाकामयाब कोशिशो के पीछे क्या पता, इन लहरों की किसी जन्म की अधूरी ख्वाहिशें रही हो. हम तो बस उसे वैज्ञानिक जामा पहना 
कर अपनी पीठ थपथपा लेते है.”

वह कुछ बोला नहीं. शांत बैठा रहा.

“क्या बात है? खामोश क्यों हो?”

“कुछ नहीं. बस ऐसे ही.”

वह खिलखिलाकर हंसी.

“चलो भी. अब मुझसे झूठ न बोला करो. तुम्हारी आँखें चीख पुकार कर कह रही है कि तुम परेशान हो. क्या बात है, बताओ मुझे.”

“मैं.... मैं खो जाना चाहता हूँ.... सच... मैं खो जाना चाहता हूँ कही पर. कुछ दिनों के लिए. बस सोचता हूँ कि कुछ दिनों के लिए खो जाऊ और फिर मन शांत हो जाए तो लौट आऊ.”

इस बार तो उसकी हंसी बड़ी ही लम्बी थी. वह थोड़ी देर को सहम सा गया उसकी हंसी से.

“अरे बुद्धू, जब लौटने का रास्ता मालुम हो तो उसे खोना थोड़ी न कहते है. खो जाने का मतलब कि फिर लौटने की कोई सूरत न रहे. खो जाना मतलब बस खो जाना....”

“शायद...”

वह फिर चुप हो गया. थोड़ी देर को शाम के धुंधलकों में चुप्पी छा गयी. बस समंदर की लहरें किसी जन्म की अधूरी ख्वाहिशों को पूरी करने की कोशिश में लगी रही. बस लहरों का ही शोर रह गया था वहाँ. लोग अपने अपने घरो को लौटने लगे थे. कुछ देर में ही सन्नाटा सा हो गया. फिर...

“तुम मेरे बारे में सोच रहे हो न?”

“हम्म.... हाँ.”

“क्या?”

“तुम बुरा मानोगी.”

फिर वही हंसी....

“बुद्धू, तुम्हारी किसी बात का बुरा नहीं लगता मुझे.”

“पता नहीं.... मगर मैं सोच रहा था कि तुम मेरा कितना ख्याल 
रखती हो...”

इस बार हंसी की जगह एक मुस्कान ने ले ली.

“तो?”

“तो... तो... मुझे बुरा लगता है कि मैं तुम्हारा उतना ख़याल नहीं रख पता जितना मुझे रखना चाहिए. और जब मैं सोचता हूँ कि तुम मेरा जितना ख़याल रखती हो मैं तुम्हारा उतना ख्याल नहीं रख पाता तो मुझे बहुत ग्लानि होती है. मुझे लगता है कि क्यूंकि तुम मेरे लिए इतना सोचती हो इसलिए मुझे भी तुम्हारे लिए इतना सोचना चाहिए.”

हंसी गायब हो गयी और मुस्कान लापता.

“तुम्हे पहले बताना चाहिए था कि तुम्हे ग्लानि होती है.”

“तुम बुरा मान गयी....”

“हरगिज़ नहीं... तुम्हारी ख़ुशी बहुत कीमती है. जानते हो तुम खुश क्यों नहीं हो? क्यूंकि तुम वो नहीं कर रहे जो तुम करना चाहते हो. भूल जाओ सब कुछ. उठाओ अपनी गिटार और बना डालो कुछ नयी धुनें. हो सकता है स्ट्रीट शो करने पड़े. म्यूजिशियन के चक्कर काटने पड़े. मगर यूट्यूब मदद करेगा. फैन फोल्लोइंग बढ़ेगी तो लोग मौके भी देंगे.”

कोई जवाब नहीं. सिर्फ शान्ति.

“तुम जानते हो मैं इतनी खुश क्यों रहती हूँ? क्यूंकि मैं सिर्फ अपने ख्वाब के बारे में सोचती हूँ. तुम भी खुश तभी रह पाओगे जब अपने ख्वाब के बारे में सोचोगे. और जब खुद खुश रहोगे तभी दुसरो को भी ख़ुशी दे पाओगे.”

समंदर में एक बड़ी लहर उठी और छपाक से समंदर में तली में चली गयी.

“सच! मैं... मैं यही करूँगा.”

“हाँ, अभी से तैयारी शुरू करो. अभी जाओ. और जुट जाओ. और सुनो अपना ध्यान न भटकाना. जब तक सफल न हो जाओ. मुझसे न मिलना. मेरे बारे में पूछना भी मत. नहीं तो ध्यान भटकेगा. अब जाओ. और पीछे मुड़कर मत देखना.”

वह उठा लेकिन उठने से पहले उसने उसे गले लगा लिया. फिर ख़ुशी से बिना रुके, और बिना किसी को बताये वह उसी रात वह शहर से चला गया.

तीन साल.

उसने खूब मेहनत की. जान से प्राण से. और कामयाबी हासिल की. आज देश नहीं, दुनिया में उसका नाम था. वह बहुत खुश था.

वह अपने शहर लौटा और सीधा उसके घर गया. वह अपने घर में नहीं थी. उसने मगर किसी से कुछ नहीं पूछा और न ही किसी ने उसे कुछ बताया. वह जानता था कि वह कहाँ मिलेगी.

लेकिन समंदर किनारे बड़ा सन्नाटा था. वहाँ कोई नहीं था. वह जगह निर्जन हो चुकी थी. जैसे कई सालो से वहाँ कोई नहीं आया हो. वह उदास हो गया. क्या हुआ था आखिर?

तभी अचानक उसकी नज़र कुछ पत्थरो पर पड़ी. उन पत्थरो के पास एक छोटा सा खोह था. उसे याद था अक्सर वह उसे सताने के लिए उस खोह में उसकी चीज़े छुपा दिया करती थी और फिरौती में आइस-क्रीम या चौकलेट मिलने पर दिया करती थी. अनायास ही उसके कदम उस तरफ बढ़ चले. उस खोह में कुछ चमकती हुई चीज़ थी. उसने हाथ लगाया. प्लास्टिक में कागज़ का टुकड़ा रखा था. उसने वह कागज़ निकाल कर देखा –

“प्रिय अनिकेत,
मुझसे एक गलती हो गयी. मैं खो गयी. मुझे कभी पता ही नहीं चला. मैंने खुद को खो दिया. हमेशा तुम्हारे बारे में ही सोचा. तुम्हारी ही ख्वाहिशो को जिया. न कभी खुद पर ध्यान दिया. न कभी खुद से प्यार किया. जैसे मैं तो कभी थी ही नहीं. बस तुम ही थे. और जब पता चला कि तुम्हारी ग्लानि की वज़ह मैं हूँ तो कुछ बचा ही नहीं. तब ध्यान आया कि अरे मैं तो कब की खो चुकी हूँ. अभी तुम्हे जाते हुए देख रही हूँ. तुम्हारे जाने के बाद मैं नज़र ही नहीं आ रही. यही तो खो जाना होता है.

अनिकेत, तुम मुझे कभी माफ़ मत करना.

तुम्हारी,
अनाहिता”


- © स्नेहा गुप्ता

17 comments:

  1. “तुम जानते हो मैं इतनी खुश क्यों रहती हूँ? क्यूंकि मैं सिर्फ अपने ख्वाब के बारे में सोचती हूँ. तुम भी खुश तभी रह पाओगे जब अपने ख्वाब के बारे में सोचोगे. और जब खुद खुश रहोगे तभी दुसरो को भी ख़ुशी दे पाओगे.”

    बहुत खूबसूरत सलाह दी अनाहिता ने पर कहानी का अंत बहुत ही दार्शनिकता के अंदाज में हुआ है.

    अनिकेत को जब पत्र मिला:- "और जब पता चला कि तुम्हारी ग्लानि की वज़ह मैं हूँ तो कुछ बचा ही नहीं. तब ध्यान आया कि अरे मैं तो कब की खो चुकी हूँ."

    एक बोध कथा की तरह के शब्द और सीख है, बहुत शानदार और लाजवाब कहानी.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ताऊ जी

      Delete
  2. खो जाने की सही पहचान.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर मनभावन

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी

      Delete
  4. स्नेह जी आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आई हूँ ..सच में काफी अच्छा लगा ... ये कहानी बहुत सुंदर ..अब आना होता रहेगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सुमनजी, बहुत बहुत स्वागत है :)

      Delete
  5. आह..........!!
    खो गया था मैं भी पढ़ते पढ़ते।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मानव जी

      Delete
  6. बहुत सुन्दर....
    touching!!!

    anu

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनु जी

      Delete
  7. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (26.08.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद नीरज सर! आभारी हु

      Delete
  8. बहुत बढ़िया स्नेहा ...time mile to mere blog par aana

    ReplyDelete

मेरा ब्लॉग पढ़ने और टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.